Home देश ग्रीस में ‘ग्रैंड क्रॉस ऑफ द ऑर्डर ऑफ ऑनर’ से सम्मानित हुए...

ग्रीस में ‘ग्रैंड क्रॉस ऑफ द ऑर्डर ऑफ ऑनर’ से सम्मानित हुए पीएम मोदी

66
0
पीएम मोदी

लेखक- विशाल राणा

ब्रिक्स सम्मेलन की समाप्ती के बाद वहां से लौटते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार को ग्रीस के एथेंस पहुंचे। जहां पहुंचने पर पीएम मोदी का गर्मजोशी से स्वागत किया गया। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एथेंस में अपने यूनानी समकक्ष क्यारीकोस मित्सोटाकिस के साथ प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता की। वहीं एथेंस में ग्रीस राष्ट्रपति कतेरीना एन. सकेलारोपोलू द्वारा पीएम मोदी को ‘ग्रैंड क्रॉस ऑफ द ऑर्डर ऑफ ऑनर’ से सम्मानित किया गया जो ग्रीस का दूसरा सबसे बड़ा सम्मान है।

‘ग्रैंड क्रॉस ऑफ द ऑर्डर ऑफ ऑनर’ से सम्मानित होने के बाद पीएम मोदी ने धन्यवाद करते हुए कहा कि, “मुझे ग्रैंड क्रॉस ऑफ द ऑर्डर ऑफ ऑनर से सम्मानित करने के लिए मैं राष्ट्रपति कतेरीना एन. सकेलारोपोलू, ग्रीस की सरकार और लोगों को धन्यवाद देता हूं। यह ग्रीस के लोगों का भारत के प्रति सम्मान दर्शाता है।”

ग्रीस और भारत के रिश्ते काफी मजबूत

अपने भाषण में बोलते हुए पीएम मोदी ने कहा कि, “ग्रीस और भारत दुनिया की 2 पुरातन सभ्यताओं, 2 पुरातन लोकतांत्रिक विचारधाराओं और 2 पुरातन व्यापार और सांस्कृतिक संबंधों के बीच एक स्वाभाविक मेल है। हमारे रिश्ते की बुनियाद प्राचीन और मजबूत है। 40 साल के लंबे अंतराल के बाद कोई भारतीय प्रधानमंत्री ग्रीस आए हैं। फिर भी ना तो हमारे संबंधों की गहराई कम हुई ना ही रिश्तों की गर्मजोशी में कमी है। इसलिए आज पीएम(ग्रीस) और मैंने भारत-ग्रीस संबंधों को रणनीतिक स्तर पर ले जाने का फैसला किया है। हमने रक्षा और सुरक्षा, बुनियादी ढांचे, कृषि, शिक्षा, नई और उभरती प्रौद्योगिकी और कौशल विकास के क्षेत्रों में अपना सहयोग बढ़ाने और अपनी रणनीतिक साझेदारी को मजबूत करने का निर्णय लिया है।”

NSA स्तर का एक संवाद मंच होगा तैयार

आगे पीएम मोदी ने बोलते हुए कहा कि, “रक्षा और सुरक्षा के क्षेत्र में, हम सैन्य संबंधों के साथ-साथ रक्षा उद्योग को सशक्त बनाने पर सहमत हुए हैं। आज हमने आतंकवाद और साइबर सुरक्षा के क्षेत्र में आपसी सहयोग पर चर्चा की। हमने तय किया है कि NSA स्तर का एक संवाद मंच भी होना चाहिए। प्रधानमंत्री और मैं इस बात से सहमत हैं कि हमारा द्विपक्षीय व्यापार तेजी से बढ़ रहा है और आने वाले समय में भी इसमें बढ़ोतरी की अपार संभावनाएं हैं। इसलिए हमने 2030 तक अपने द्विपक्षीय व्यापार को दोगुना करने का निर्णय लिया है।”

Previous articleNeeraj Chopra: नीरज चोपड़ा वर्ल्ड एथलेटिक्स चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंचे
Next articleChandrayaan 3 Rover: चंद्रयान-3 के रोवर ने चांद पर 8 मीटर की दूरी तय की