Home देश Kargil Vijay Diwas 2023: ‘अगर जरूरत पड़ी तो हम Loc पर करेंगे...

Kargil Vijay Diwas 2023: ‘अगर जरूरत पड़ी तो हम Loc पर करेंगे भविष्य में,’ करगिल विजय दिवस पर द्रास में गरजे रक्षा मंत्री

84
0
Kargil Vijay Diwas

Kargil Vijay Diwas 2023: देश आज 24वां करगिल विजय दिवस मना रहा है, आज विजय दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह समेत तमाम नेताओं-मंत्रियों ने शहीदों को श्रद्धांजलि दी। 26 जुलाई, 1999 का दिन हर भारतीय के जहन में हमेशा रहेगा। क्योंकि इस दिन भारतीय सैनिकों ने अपने अदम्य साहस, शौर्य और पराक्रम का परिचय देते हुए दुश्मन देश पाकिस्तान को कारगिल की लड़ाई में हराया था। कारगिल युद्ध को हुए 24 साल का समय बीत चुका है लेकिन इस युद्ध को जिन्होंने लड़ा या अपनी आंखों से देखा उनके जहन में इसकी तस्वीरें ऐसे साफ दिखाई पड़ती हैं जैसे ये सब कल की ही बात हो. करीब तीन महीनों तक लड़े गए इस युद्ध में भारत ने अपने 562 जवानों को खो दिया। लेकिन मां भारती के दामन में एक भी दाग न लगने दिया।

लद्दाख में कारगिल युद्ध में प्राणों की आहुति देने वाले जवानों को श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए कारगिल विजय दिवस के अवसर पर द्रास के कारगिल युद्ध स्मारक पर पुष्पांजलि समारोह आयोजित किया जा रहा है। सेना प्रमुख जनरल मनोज पांडे ने कारगिल विजय दिवस के अवसर पर द्रास के कारगिल युद्ध स्मारक पर पुष्पांजलि अर्पित कर कारगिल युद्ध में प्राणों की आहुति देने वाले जवानों को श्रद्धांजलि अर्पित की।

कारगिल दिवस के मौके पर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल के शौर्य स्मारक पहुंचकर प्राणों की आहुति देने वाले जवानों को श्रद्धांजलि अर्पित की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, “कारगिल विजय दिवस भारत के उन अद्भुत पराक्रमियों की शौर्यगाथा को सामने लाता है, जो देशवासियों के लिए सदैव प्रेरणाशक्ति बने रहेंगे। इस विशेष दिवस पर मैं उनका हृदय से नमन और वंदन करता हूं। जय हिंद.”

लद्दाख में वायु सेना प्रमुख, एयर चीफ मार्शल वी.आर. चौधरी ने कारगिल विजय दिवस के अवसर पर द्रास के कारगिल युद्ध स्मारक पर पुष्पांजलि अर्पित कर कारगिल युद्ध में प्राणों की आहुति देने वाले जवानों को श्रद्धांजलि अर्पित की। लद्दाख के द्रास में केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कारगिल विजय दिवस के मौके पर कारगिल युद्ध स्मारक पहुंचे। उन्होंने कारगिल युद्ध में अपनी जान गंवाने वाले जवानों को श्रद्धांजलि दी।

केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, “भारत की रक्षा के लिए 1999 में देश के सैनिकों ने जो वीरता और शौर्य का प्रदर्शन किया वह स्वर्ण अक्षरों में लिखा जाएगा। आज हम खुली हवा में सांस इसलिए ले पा रहे हैं क्योंकि किसी समय में 0 डिग्री से कम तापमान में हमारे सैनिकों ने ऑक्सीजन की कमी के बावजूद अपनी बंदूकें कभी नीचे नहीं की। आज कारगिल में भारत का ध्वज इसलिए लहरा रहा हैं क्योंकि 1999 में भारत के सैनिकों ने अपने शौर्य का परिचय देते हुए दुश्मनों की छाती में तिरंगा लहरा दिया था.”

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ में कारगिल शहीद स्मृति वाटिका में आयोजित कारगिल विजय दिवस कार्यक्रम कारगिल युद्ध में अपनी जान गंवाने वाले जवानों को श्रद्धांजलि दी। इस मौके पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने संबोधित किया, इस दौरान उन्होंने कहा, “1999 में कारगिल युद्ध के दौरान, इससे पूर्व के सभी युद्धों में और इसके उपरांत भी देश की सीमाओं की रक्षा करने वाले भारत माता के वीर सपूतों को मैं विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं…नए भारत में हर नागरिक को सुरक्षा की गारंटी है। इस नए भारत में आतंकवाद के लिए, नक्सलवाद के लिए किसी भी तरह की कोई जगह नहीं है.”

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने मीडिया से बात करते हुए कहा, “कारगिल विजय दिवस के अवसर पर मैं उन वीर जवानों को नमन करता हूं जिन्होंने भारत के लिए अपना बलिदान दिया। युद्ध के दौरान अटल जी प्रधानमंत्री थे, पहली बार ऐसा युद्ध हुआ जिसमें सेना ने युद्ध के मैदान के साथ-साथ आमने सामने बैठकर भी जीत हासिल की.”

Previous articleAlia Bhatt: माथे पर बिंदी और खूबसूरत साड़ी में बेहद क्यूट लग रहीं आलिया भट्ट
Next articleVIDEO: पैपराजी पर फिर भड़कीं जया बच्चन, वीडियो वायरल