Home देश Chandrayaan 3: प्रज्ञान रोवर को चंद्रमा की सतह पर 4 मीटर का...

Chandrayaan 3: प्रज्ञान रोवर को चंद्रमा की सतह पर 4 मीटर का मिला गड्ढा; इसरो ने शेयर की तस्वीर

89
0
प्रज्ञान रोवर

Chandrayaan 3: चंद्रयान-3 मिशन का चंद्रमा पर सफलतापूर्वक सॉफ्ट लैंडिंग के बाद रोवर ‘प्रज्ञान’ प्रतिदिन कुछ न कुछ अपडेट को मिलते है. इस दौरान सोमवार को भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने बताया कि प्रज्ञान रोवर को कल चंद्रमा की सतह पर 4 मीटर व्यास का गड्ढा मिला.

एक्स (पूर्व ट्विटर) पर इसरो ने कहा, भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने तस्वीर साझा करते हुए ट्वीट कर बताया, “चंद्रयान-3 मिशन का रोवर प्रज्ञान 27 अगस्त को अपने स्थान से 3 मीटर आगे एक 4 मीटर व्यास वाले गड्ढे (क्रेटर) के पास पहुंचा. इसके बाद रोवर को वापस लौटने की कमांड दी गई. ये अब सुरक्षित रूप से एक नए रास्ते पर आगे बढ़ रहा है.”

इससे पहले अंतरिक्ष अनुप्रयोग केंद्र (SAC) के निदेशक नीलेश एम. देसाई ने रविवार को कहा था कि चंद्रमा की सतह पर घूम रहा चंद्रयान-3 का रोवर मॉड्यूल प्रज्ञान “समय के खिलाफ दौड़” में है और इसरो वैज्ञानिक इसे कवर करने के लिए काम कर रहे हैं. 6 पहियों वाले रोवर के माध्यम से अज्ञात दक्षिणी ध्रुव की अधिकतम दूरी.

उन्होंने कहा कि चंद्र मिशन के तीन मुख्य उद्देश्य थे: चंद्रमा की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग, प्रज्ञान रोवर की गति और छह पहियों वाले रोवर और लैंडर विक्रम से जुड़े पेलोड के माध्यम से विज्ञान डेटा प्राप्त करना. वैज्ञानिक ने कहा, “हमारे दो मुख्य उद्देश्य सफलतापूर्वक पूरे हो गए हैं, लेकिन हमारा तीसरा उद्देश्य चल रहा है.”

यह देखते हुए कि प्रज्ञान रोवर समय के खिलाफ दौड़ में है, उन्होंने कहा, “हमारा ध्यान रोवर को चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव की जितनी संभव हो उतनी दूरी तय करने पर है ताकि यह अधिक प्रयोग कर सके और हम पृथ्वी पर डेटा प्राप्त कर सकें.”

देसाई ने कहा,”हमारे पास इस मिशन के लिए कुल मिलाकर केवल 14 दिन हैं, जो चंद्रमा पर एक दिन के बराबर है, इसलिए चार दिन पूरे हो चुके हैं। शेष दस दिनों में हम जितना अधिक प्रयोग और शोध कर पाएंगे, वह महत्वपूर्ण होगा। हम एक में हैं समय के खिलाफ दौड़ें क्योंकि इन 10 दिनों में हमें अधिकतम काम करना है और इसरो के सभी वैज्ञानिक इस पर काम कर रहे हैं.”

भारत ने 23 अगस्त को एक बड़ी छलांग लगाई, जब चंद्रयान -3 लैंडर मॉड्यूल चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर सफलतापूर्वक उतरा, जिससे यह ऐतिहासिक उपलब्धि हासिल करने वाला पहला देश बन गया. अमेरिका, चीन और रूस के बाद चंद्रमा की सतह पर सफलतापूर्वक उतरने वाला देश चौथा देश बन गया है.

Previous articleReliance AGM 2023: इस दिन लॉन्च होगा Jio Air Fiber, मुकेश अंबानी ने किया ऐलान
Next articleLPG Cylinder: रक्षा बंधन पर राहत! सरकार ने LPG सिलेंडर की कीमतों में 200 रुपये की कटौती